स्कूल फीस के नाम पर वसूली से एबीवीपी मुखर, ज्ञापन सौंपा

335

जिले समेत शहर के कई स्कूलों में चल रहा है गोरखधंधा
बदायूं। जिले भर में मौजूद शिक्षण संस्थानों द्वारा अभिभावकों के आर्थिक शोषण के विरोध में एबीवीपी ने मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को कार्यकर्ताओं ने विभाग संयोजक सहदेव सागर के नेतृत्व में मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपकर इस मामले में प्रभावी कार्रवाई की मांग की है।
ज्ञापन में प्रमुख रूप से बताया गया है कि निजी स्कूलों समेत एडेड इंटर कालेजों में जेनरेटर शुल्क, प्रगति पत्र शुल्क और विकास शुल्क समेत विभिन्न माध्यमों से शुल्क मांगे जाते हैं। इनके अलावा इवेंट शुल्क भी समय-समय पर लिया जाता है। जबकि आरटीई के मुताबिक ऐसा कोई शुल्क बुनियादी शिक्षा में मान्य नहीं है। यह सब केवल इन कालेजों की प्रधानाचार्यों समेत पीटीए स्टाफ की मनमानी के चलते वसूला जाता है। ठीक इसी तरह इंग्लिश मीडियम स्कूलों में भी यही दशा है। ऐसे में अभिभावकों पर पढ़ाई के नाम पर अतिरिक्त बोझ पड़ता है, जो सीधे इन प्रधानाचार्यों और स्टाफ की जेबों में जाता है। खासियत यह है कि प्रबंध मंडल की इन कारगुजारियों की जानकारी तक नहीं होती। ऐसे में मांग की गई कि इन प्रकरणों की बारीकि से जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। ज्ञापन देने वालों में योगेश कुमार, अंकित साहू, अमित गुप्ता, पिनेश, सत्यदेव समेत तमाम कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here