संसदीय में खुद की जीत पर शंका जता रहे भाजपाइयों में छिपे हैं भितरघाती 

255
-सदर विधायक के नेतृत्व में सीएम को भेजी गई चिट्ठी के वायरल ने कराई प्रदेशभर में भाजपा की छीछालेदर 
-गोपनीय चिट्ठी कैसे हो गई लीक, इसका किसी के पास नहीं जवाब 
बदायूं। आने वाले संसदीय चुनाव में सूबे के पूर्व मुखिया अखिलेश यादव के अनुज व मौजूदा बदायूं सांसद धर्मेंद्र यादव के सामने खुद को बौना मान रहे सत्ताधारी दल के तीन विधायकों समेत एक एमएलसी की एक चिट्ठी ने सूबेभर में भाजपा की फजीहत कराने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है। हालांकि चिट्ठी अपनी जगह सही लिखी गई है लेकिन इनके बीच मौजूद किसी भितरघाती ने इस चिट्ठी को वायरल करके यह जाहिर कर दिया है कि भाजपाइयों में अभी भी सांसद धर्मेंद्र यादव की लोकप्रियता का खौफ है।
सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ को एक चिट्ठी जारी की गई। भाजपा के पैड पर जारी इस चिट्ठी पर सदर विधायक महेश चंद्र गुप्ता, दातागंज विधायक राजीव कुमार सिंह उर्फ बब्बू भैया और बिल्सी विधायक आरके शर्मा समेत एमएलसी जयपाल सिंह व्यस्त के हस्ताक्षर हैं। चिट्ठी में सपा सांसद धर्मेंद्र यादव की तारीफों के जहां पुल बांधे गए हैं वहीं अपनी कमजोरियां भी गिनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। ऐसा ठीक भी है क्योंकि जब विरोधी बेहद ज्यादा ताकतवर हो तो उसकी ताकत और अपनी कमजोरियों का आंकलन लड़ाई से पहले किया जाता है। तजुर्बेकार विधायकों ने भी ऐसा ही किया और सीएम के संज्ञान में पूरा प्रकरण डाल दिया। ताकि आने वाले चुनाव की तैयारियां उसी आधार पर करके यह सीट सपा से हथियाकर भाजपा के पाले में लाई जाए लेकिन किसी भितरघाती ने इस गोपनीय चिट्ठी को ऐसा वायरल किया कि इन विधायकों से इन्हीं की विधानसभाओं को वोटरों का भरोसा उठने लगा है।

अपने सिर से हटाया दोष 
यह भी माना जा रहा है कि इन विधायकों ने यह चिट्ठी भेजकर अपने सिर से दोष हटाने की राजनीति की है। क्योंकि इन्हें पता है कि अपनी विधानसभाओं में भी ये सपा के किले में सेंध लगाने में अक्षम हैं, इसलिए पहले से ही पार्टी को यह जानकारी देकर अपने सिर से दोष हटा लिया जाए। फिर भी अगर भाजपा प्रत्याशी जीत गया तो इस चिट्ठी को अपनी सतर्कता का नाम दे दिया जाए।

जमकर गिनाईं खूबियां 
चिट्ठी में स्पष्ट कहा गया है कि सांसद धर्मेंद्र यादव ने जिले में मेडिकल कालेज, बाइपास, फोरलेन, जीटीआई कालेज समेत तमाम विकास कार्य कराए हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here