मुन्ना बजरंगी पर चली गोली योगी सरकार की कानून व्यवस्था की स्थिति पर लगी गोली जैसी: धर्मेंद्र

329

जेल में कुख्यात माफिया डॉन की हत्या पर सपा सांसद ने प्रदेश सरकार को घेरा
बोले सांसद: अपराधी से कोई सहानभूति नहीं पर कानून व्यवस्था पर सवाल लगना लाजिमी
बदायूं। कुख्यात माफिया डॉन प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी को जेल में 10 गोली मार कर हत्या कर दी गयी है। चूंकि वह शातिर अपराधी था तो उससे किसी को कोई सहानभूति हो, यह सवाल ही नहीं उठता। लेकिन फिर भी जेल में इस तरह की हत्या सीएम योगी की क़ानून व्यवस्था पर सवालिया निशान जरूर खड़ा करती है। क्योंकि जब उसकी पत्नी ने पहले ही हत्या की आशंका जता दी थी, तब तो सरकार को गंभीर होना चाहिए था।
ये वक्तव्य बदायूं के सपा सांसद धर्मेंद्र यादव के हैं। मुन्ना बजरंगी हत्याकांड पर उन्होंने सीधे तौर पर प्रदेश सरकार को घेरा है। कहा कि
मुन्ना जैसा अपराधी मारा गया, यह जनमानस के लिए अच्छी खबर है। योगी सरकार चाहे दुरुस्त कानून व्यवस्था का लाख दावा कर ले लेकिन सच के धरातल पर ये दावे हवाई साबित हो रहे हैं। असल सच तो यह है कि पुलिस खुलेआम मनमानी कर रही है और भ्रष्टाचार पुलिस की रग-रग में समा चुका है।
कहा कि प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी पेशेवर हत्यारा था। कई घरों के चिराग उसने बुझाए, इसलिए उसके साथ ऐसा हुआ तो कोई हैरत वाली बात नहीं है लेकिन, जेल के भीतर मुन्ना बजरंगी को मारी गई गोली, दरअसल योगी आदित्यनाथ की सरकार में कानून व्यवस्था की स्थिति पर लगी गोली की तरह है।
बता दें कि यूपी के कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या कर दी गई है। बाग़पत जेल में मुन्ना बजरंगी को 10 गोलियां मारी गई हैं। जिससे मौक़े पर ही उसकी मौत हो गई। हालांकि हत्या में इस्तेमाल पिस्टल अभी बरामद नहीं किया जा सका है. पिस्टल को गटर में फेंक दिए जाने की आशंका है। हत्या का आरोप सुनील राठी पर लग रहा है. जो जेल में बंद है. इस मामले में संज्ञान लेते हुए यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जांच के आदेश दे दिए हैं. डीएम को जांच सौंपी गई है साथ ही जेल के जेलर, डिप्टी जेलर और कई कॉन्सटेबल को सस्पेंड कर दिया गया है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here